Followers

Friday, 20 May 2016

बसंती बयार

The beloved shines like the sun;
the lover whirls like the planets.
When love’s spring breeze blows,
every moist branch starts dancing

चमकता माशूक सूरज के जैसे ;
 प्यार चक्कर लगाता ग्रहों जैसे
 जब बहे बयार प्यार की बसंती
 हर गीली शाख लगती थिरकने .

छोड़ो न

Do not leave me,
hide in my heart like a secret,
wind around my head like a turban.
"I come and go as I please,"
you say, "swift as a heartbeat."...
You can tease me as much as you like
but never leave me.


छोड़ो न मुझे ,
 जाओ छिप दिल में गुप्त चुप  से
 सर चढ़  मंडराओ पगड़ी जैसे 
 आता और जाता मैं मर्ज़ी से अपनी
कहते तुम , तेज़ जैसे धड़कने दिल की ..
 तुम चिड़ा सकते मुझे चाहो जितना
पर कभी न  छोड़ कर जाना मुझे  

Kids on Easter egg hunt in blooming spring garden. Children with bunny ears searching for colorful eggs in snow drop flower meadow. Toddler boy and preschooler girl in rabbit costume play outdoors.  - stock photo

प्यार पानी

A lifetime without Love is of no account.
Love is the Water of Life.
 Drink it down with heart and soul !
ज़िंदगी सारी नहीं कुछ काम की
 प्यार पानी ज़िंदगी में
पियो छक के दिल से और रूह से !

Thursday, 19 May 2016

एक

If there are a hundred religious books, they are but one chapter:
a hundred different religions seek one place of worship.
All these roads end in one House:
all these thousand ears of corn are from one Seed.
All the hundred thousand sorts of food and drink...
are but one thing if one looks to their final cause.
When you are entirely satiated with one kind of food,
fifty other kinds of food become displeasing to your heart.
In hunger, then, you are seeing double,
for you have regarded as more than a hundred thousand
that which is but One. 


 
 सेंकडो हों किताबें धर्म पर,  एक हैं वे  सार -संक्षेप  में 
 सैंकड़ों धर्मो को ज़रूरत एक पूजा केंद्र की 
 रास्ते सारे  जाते एक ही घर को
 ज्यूँ हज़ारों दाने  मक्के के उगें  एक बीज से
 सेंकडो हज़ारों पके पकवान खाने पीने को
 ध्यान से देखो  अंतिम परिणति तो एक सबकी
 जब हो तुम तृप्त भोजन एक खा के
 पचासों नए भोजन लगते उबाऊ ह्रदय  को
भूख लगती, तो,  भाते  दोगुने
क्योंकि तुमने माना   सेंकडो हज़ारों से भी ज्यादा 
 उसे जो
कि  एक है केवल  

Tuesday, 9 June 2015

मयखाने में

You are drunk
and I'm intoxicated
no one is around
showing us the way home
again and again...
I told you
drink less
a cup or two

I know in this city
no one is sober
one is worse than the other
one is frenzied and
the other gone mad
come on my friend
step into the tavern of ruins
taste the sweetness of life
in the company of another friend
here you'll see
at every corner
someone intoxicated
and the cup-bearer
makes her rounds
I went out of my house
a drunkard came to me
someone whose glance
uncovered a hundred
houses in paradise
rocking and rolling
he was a sail
with no anchor but
he was the envy of all those sober ones
remaining on the shore
where are you from I asked
he smiled in mockery and said
one half from the east
one half from the west
one half made of water and earth
one half made of heart and soul
one half staying at the shores and
one half nesting in a pearl
I begged
take me as your friend
I am your next of kin
he said I recognize no kin
among strangers
I left my belongings and
entered this tavern
I only have a chest
full of words
but can't utter
a single one
नशे में तुम मस्त
और मैं बहका हुआ हूँ
 साथ कोई नहीं है
 जो दिखाए राह घर की
 बार और बार ..
कहा था मैंने
पियो थोड़ी
 एक या दो प्याले
जानता हूँ मैं इस शहर में
 होश में कोई नहीं है
 हाल एक दूजे से बदतर
एक है उन्मत्त और
 दूसरा पगला चुका है
आओ  आओ यार मेरे
चलते हैं  खण्डरों में
चखते हैं  ज़िंदगी की मिठास
 दोस्तों की मण्डली में
देखोगे यहाँ तुम 
ज़र्रे ज़र्रे में
कोई न कोई नशे में
और साकी
घूमती रहती
मैं गया बाहर मकां से
एक शराबी पास आया  मेरे
 कोई इक  जिसकी नज़र
झरोखा थी सैंकड़ों
 जन्नत के  घरों का
झुमता और मस्त चलता
इक समुद्री जहाज
जिसका लंगर कहीं न
होश में थे जो, जलते थे उस से
खड़े रहते  किनारे
हो कहाँ से आप , पूछा मैंने
मुस्काया वो मज़ाक  से और बोला
 आधा पूरब से हूँ
आधा हूँ पश्चिम से
 आधा बना हूँ पानी से और आधा ज़मीन से
 आधा दिल आत्मा से
आधा  रहता किनारे और
आधा हूँ सीप का मोती
गिड़गिड़ाया मैं
दोस्त मुझ को बना लो 
 सगा रिश्तेदार हूँ मैं
बोला वो जानता मैं  न कोई रिश्ता
अजनबी सारे यहाँ हैं
छोड़ दी मैंने जागीर सारी और
आया मैं इस  मयखाने में
पास मेरे सिर्फ है इक सीना
भरा शब्दों से
पर जुबां तक आता न
शब्द इक भी ..

चूमता है चाँद

Each night
            the moon kisses secretly
                              the lover who
                                              counts the stars.




   

रात को हर
चूमता  है चाँद छुपके
  प्रेमी   को उस
जागता  हो जो तारे गिनता  

Saturday, 27 September 2014

प्यार

Only the soul knows what love is.

Photo



                       जानती है आत्मा बस
                                             प्यार है क्या